बतकही

बातें कही-अनकही…

कथेतर

अंजली डुडेजा : विद्यालय, बच्चे और खामोश कोशिश

भाग दो : पढ़ना सबसे अधिक ज़रूरी है ! हमारे समाज का बहुत बड़ा हिस्सा, अर्थात् पचासी फ़ीसदी से भी अधिक, समाज का वह भाग है, जो वास्तविक धरातल पर व्यावहारिक रूप से अपने सम्मानजनक ढंग से जीवन-यापन के मौलिक अधिकारों से भी वंचित है | उसके लिए तथाकथित मुख्यधारा के समाज, अर्थात् समाज के क़रीब पंद्रह फ़ीसदी हिस्से द्वारा सदियों पहले उस बहुसंख्य आबादी के जीवन-यापन के लिए कार्यों के कुछ निश्चित दायरे भी…

कविता

काली बरफ

रचनाकार— अंजलि डुडेजा 'अभिनव' बहुत बुरा लगता है, जब जंगल जलाए जाते हैं धुंए का वो गुबार बहुत बुरा लगता है। कितने मासूम जंगली जानवर चिड़ियों के घोंसले घोंसलों में नन्हें बच्चे उस आग में जल जाते हैं तब बहुत बुरा लगता है। बहुत बुरा लगता है दावानल जब वह नन्हे पेड़, कोमल पौधे और हरी घास लील जाता है आग का वो सैलाब, छोड़ जाता है अपने पीछे धुंए की गंध जिस में मिली…

कविता

बेटी की पुकार

लेखिका— अंजलि डुडेजा ‘अभिनव’ मां, मैं तो बेटी हूं तेरी, मुझे बचा ले। कोई गलती नहीं मेरी, मुझे बचा ले। मां का नाम है ममता, फिर क्यों है ये विषमता? बेटा तेरे कलेजे का टुकड़ा, मेरे लिए दिल क्यों न उमड़ा? तू क्यों हुई इतनी बेदर्द, मैं तो बेटी हूं तेरी मुझे बचा ले। मुझसे ये घर महक उठेगा, उपवन सारा चहक उठेगा; तेरा सारा काम करूंगी, तुझको मैं आराम भी दूंगी; घर आंगन में…

error: Content is protected !!