बतकही

बातें कही-अनकही…

कथेतर

विनीता देवरानी : जिसकी नज़र में प्रत्येक विद्यार्थी ख़ास है !

भाग-एक : ‘स्टूडेंट’ से ‘टीचर’ के निर्माण की विकास-यात्रा “आज के राजा तुम्हीं हो ! इसलिए महसूस करो कि तुम्हारा जन्म कितना ख़ास है ! तुम अपने माता-पिता, भाई-बहन, दोस्तों, शिक्षकों और बहुत सारे लोगों के लिए कितने स्पेशल हो, जो तुमसे बहुत प्यार करते हैं | आज तुम महसूस करो कि तुम विशेष उद्देश्य से संसार में आए हो, इसलिए तुम्हें आगे चलकर कुछ अच्छे काम करने हैं, जिससे दुनिया तुम्हें याद रखे !”…

कथेतर

सरिता मेहरा नेगी: ‘एक विद्यालय’ बनाने की कोशिश में ‘पहली अध्यापिका’

भाग-एक : ‘पहली अध्यापिका’ तत्कालीन सोवियत रूस के एक क्षेत्र कज़ाकिस्तान के लेखक चिंगिज़ एतमाटोव द्वारा रचित ‘पहला अध्यापक’ पढ़ने के बाद मैं कभी उस अध्यापक दूइशेन को भूल ही नहीं सकी, जिसने अपने विद्यार्थियों को पढ़ाने के लिए न केवल अपनी पूरी ऊर्जा ही ख़र्च कर डाली, बल्कि उसके लिए अपना जीवन संकट में डाल दिया ! और इससे भी आगे बढ़कर अपनी एक किर्गीज विद्यार्थी आल्तीनाई सुलैमानोव्ना की केवल शिक्षा के लिए ही…

कथेतर

महेशानंद : सम्पूर्ण समाज का ‘शिक्षक’

भाग-दो— 'शिक्षक' बनने की प्रक्रिया में एक शिक्षक का संघर्ष...! यदि किसी माता-पिता को अपनी ऐसी किसी संतान, जिसपर उनकी सभी भावनाएँ, समस्त सपने और उनका भविष्य भी टिका हो, जिसका उन्होंने बड़े ही जतन से अपने मन और अपनी भावनाओं की पूरी ताक़त लगाकर पालन-पोषण किया हो, उसके लिए अपनी सारी उम्र लगाईं हो; उसी संतान के बड़े हो जाने के बाद अचानक उसे ‘किसी’ के द्वारा ‘मृत’ घोषित कर दिया जाए, और उस…

कविता

काली बरफ

रचनाकार— अंजलि डुडेजा 'अभिनव' बहुत बुरा लगता है, जब जंगल जलाए जाते हैं धुंए का वो गुबार बहुत बुरा लगता है। कितने मासूम जंगली जानवर चिड़ियों के घोंसले घोंसलों में नन्हें बच्चे उस आग में जल जाते हैं तब बहुत बुरा लगता है। बहुत बुरा लगता है दावानल जब वह नन्हे पेड़, कोमल पौधे और हरी घास लील जाता है आग का वो सैलाब, छोड़ जाता है अपने पीछे धुंए की गंध जिस में मिली…

error: Content is protected !!