बतकही

बातें कही-अनकही…

कविता

कृष्ण और कृष्णा

एक बात सच-सच बताओगे, सखा...? देखो फिर से अपनी मोहक मुस्कान से टाल मत देना... जानती हूँ तुम्हें, और तुम्हारी रहस्यमयी मुस्कान को भी... ...तो मुझे बताओ जरा... कि क्यों कहा था तुमने उस दिन कि मेरी आस्था ही तुम्हारी आत्मा का पोषण करती है...? गढ़ता है मेरा विश्वास, तुम्हारे व्यक्तित्व को...? जबकि मैं तो स्वयं तुम पर आश्रित हूँ, सखे | करती हूँ तुमपर विश्वास... निश्छल... कि मेरी आस्था है तुमपर... अटूट...! हाँ, सखे...!…

कविता

कैंडल मार्च -1

कैंडल मार्च आवश्यक है लोगों को इकठ्ठा करो मीडिया बुलाओ कैंडल मार्च निकलना होगा इंडिया गेट पर धरना भी देना है, अवश्य ही...! पूरे देश में प्रदर्शन किया जाएगा घेराव भी करेंगे जगह-जगह मंत्रियों को सूचना दो निश्चित फाँसी की माँग करें वे संसद में ...! यह कोई सामान्य बात नहीं है, हमारे एकाधिकार पर हमला है, हमारी श्रेष्ठता को चुनौती है, हमारी सत्ता को ललकारना है, इसे रोकना होगा, तुरंत.... वे नहीं कर सकते…

error: Content is protected !!