बतकही

बातें कही-अनकही…

शोध/समीक्षा

विश्व पुस्तक मेला 2023

खंड-छः : पुस्तक मेले में धार्मिक अल्पसंख्यक समाज इस बार 2023 का विश्व पुस्तक मेला (दिल्ली) जिस तरह से सनातनी समाज के एक हिस्से के आतंक से व्याप्त था, उस प्रभाव को देखते हुए यह प्रश्न बहुत मायने रखता है कि धार्मिक अल्पसंख्यक वर्ग, ख़ासकर मुस्लिम और ईसाई समाज की कैसी उपस्थिति और भागीदारी उस पुस्तक मेले में थी? वास्तव में पिछले 12-13 सालों में जो भय, आशंका और आतंक का माहौल पूरे देश में…

कथेतर

मनोहर चमोली ‘मनु’

‘बाल-साहित्य’ के माध्यम से समाज की ओर यात्रा... भाग-एक :- ‘मनोहर चमोली’ होने का अर्थ... सफ़दर हाशमी ने कभी बच्चों को सपनों और कल्पनाओं की दुनिया में ले जाने की कोशिश में उन्हें संबोधित करते हुए लिखा था— “किताबें कुछ कहना चाहती हैं।तुम्हारे पास रहना चाहती हैं॥ किताबों में चिड़िया चहचहाती हैंकिताबों में खेतियाँ लहलहाती हैंकिताबों में झरने गुनगुनाते हैंपरियों के किस्से सुनाते हैं किताबों में राकेट का राज़ हैकिताबों में साइंस की आवाज़ हैकिताबों…

error: Content is protected !!