बतकही

बातें कही-अनकही…

कविता

बेटी की पुकार

लेखिका— अंजलि डुडेजा ‘अभिनव’ मां, मैं तो बेटी हूं तेरी, मुझे बचा ले। कोई गलती नहीं मेरी, मुझे बचा ले। मां का नाम है ममता, फिर क्यों है ये विषमता? बेटा तेरे कलेजे का टुकड़ा, मेरे लिए दिल क्यों न उमड़ा? तू क्यों हुई इतनी बेदर्द, मैं तो बेटी हूं तेरी मुझे बचा ले। मुझसे ये घर महक उठेगा, उपवन सारा चहक उठेगा; तेरा सारा काम करूंगी, तुझको मैं आराम भी दूंगी; घर आंगन में…

कविता

जनक की याचना …

मैं मानता हूँ, राम कि तुम मर्यादा पुरुषोत्तम हो...! कई अविस्मरणीय मर्यादाएँ स्थापित की हैं तुमने, और अमर हो गए अपनी उन मर्यादायों के लिए .....| समाज और धर्म ऋणी है तुम्हारे, उन मर्यादाओं के लिए...! मुझे कुछ नहीं कहना, उनके बारे में मैं नहीं उलझना चाहता तुम्हारी मर्यादाओं से | लेकिन अपनी मर्यादाओं के फेर में तुमने एक ऐसी मर्यादा स्थापित कर दी, जिसने छलनी कर दिया पिताओं का ह्रदय मेरी पुत्री को अवश…

error: Content is protected !!